रविवार, 24 अक्तूबर 2010

kaahe na jugat ladaaye hain




कितने ही मौके गवां चूका...
तू फिर भी न पछताए हैं...
किस भरम में उलझा हैं...
काहे न जुगत लड़ाए हैं..

रत जगे सपने देखा करे...
दिन ढले तक सुस्ताये हैं..
सपनो की हांडी आंच चढ़ा...
बस ख्याली पुलाव पकाए हैं...

समय न ये थमने का...
"आलोक" ये बतलाये हैं...
एक बार जो वक़्त गया...
कुछ किये न वापस आये हैं..

प्रभु हर मुख को दाना लिखा..
पर मुख में न टपकाए हैं...
कर जतन.. कुछ तू कर जा..
काहे तकदीर रट लगाये हैं..

अब बस बढ़ चल कि. तू...
तेरे अपने आस लगाये हैं...
तेरी जीत को हर आँख तरसी..
मंजिल पलक बिछाए हैं...

...आलोक मेहता...






kitne hi mauke gawa chuka
tu phr bhi na pachtaye hain
kis bharam mein uljha hain
khahe na jugat ladaaye hain

rat jage sapne dekha kare
din dhale tak sustaaye hain
sapno ki handi aanch chada
bas khyaali pulaw pakaye hain

dekh samay na thamne ka
ki 'aalok' ye batlaaye hain
ek bar jo ye waqt gaya
kuch kare na wapas aye hain

prabhu har mukh ko dana likha
magar mukh mein na tapkaye hain
kuch jatan to tu bhi kar jaa
kahe takdeer ki rat lagaye hain

ab bas ik bar badh chal ki tu
jamana tujh se aas lagaye hain
teri hi jeet ko har ankh tarsi
teri khatir manjil palake bichaye hain


aalok mehta