गुरुवार, 12 जुलाई 2012

कुछ अपनी फितरत... कुछ तेरा कमाल भी...

मसरूफियत भी हैं.. और तेरा ख्याल भी....
कुछ अपनी फितरत... कुछ तेरा कमाल भी...


आलोक मेहता....

6 टिप्‍पणियां: