सोमवार, 21 जुलाई 2008

जिंदगी मेरी अब यार इक अजब पहेली हैं... हर रोज पेंच में इसके कुछ और उलझ जाता हूँ

क्या हैं हासिल मेरी इस जिंदगी....
जब सोचता हूँ.. बस एक खालीपन पाता हूँ...

टूटी साँसे, डूबती नब्ज़.. बिखरी रूह.. और उदास आँखें
एक ख़त्म होती कहानी का हिस्सा बना जाता हूँ...

मेरे माझी.. मेरे दोस्त.. मेरा यार....
इनसे हो दूर... इक गुमनाम जिंदगी जिए जाता हूँ...

हो रही हैं कितनी तन्हा ये जिंदगी बसर...
खुद के साए से भी अब घबराता हूँ...

क्या होगा कोई मेरी खातिर...?
सोचता हूँ... तो सहम जाता हूँ...

नाकाम ना हो जाऊ रिश्तो की कसौटी पर...
ये सोच नए रिश्ते बनता कतराता हूँ...

खुद पर भी नहीं बचा अब यकीं मुझ को..
अब तो मैं खुद से भी नजरे चुराता हूँ...

कोई इख्तियार नहीं हैं अपनी हस्ती पर
की कुछ सोचता हूँ.. और कुछ मैं कह जाता हूँ...

दुनिया से टकराने की कहा हिम्मत बाकी..
खुद पर ही बेवजह चिल्लाता हूँ...

दौर गुजरा हैं यूँ एक उल्फत का मुझ पर...
नाम मोहब्बत का लेते काँप जाता हूँ...

किसी शय की तमन्ना नहीं यु तो मुझे
फिर उसे जाता देख सहम जाता हूँ...

जिंदगी मेरी अब यार इक अजब पहेली हैं...
हर रोज पेंच में इसके कुछ और उलझ जाता हूँ....

...आलोक मेहता...


**************









Kya hasil hain meri is jindagi ka….
Aj bhi jo sochta hu… bas ek khalipan hi pata hu…

Tuti sanse, dubti nabz, bikhri ruh aur udas ankhen….
ek khatm hoti kahani ka main hissa sa bana jata hu…

mere majhi, mere dost, mera yaar….
In se ho dur … ek gumnaam jindagi jiye jaata hu…

Kitni tanha jindagi ho rahi hai basar …
Ki khud ke saye se bhi ab ghabrata hu….

Kya koi hoga meri khatir….
Ye aksar soch kar mein ghabrata hu….

Nakam na ho jau main in rishto ki kasauti par…
Ye soch naye rishte banate main ghabrata hu….

Khud par bhi yakin nahi mujhe ab to….
Aj kal khud se bhi najre churata hu….

koi ikhtiyaar Nahi hain apni hasti par mujhe…
Ki kuch sochta hu… kuch keh jaata hu…

Dunia se takrane ki himmat baki nahi
Khud par hi bewajah main chillata hu….

Daur gujra hain yu ulfat ka mujh par….
Nam bhi mohabbat ka lete kanp jaata hu….

Kisi shay ki tamanna nahi yu to mujhe…
Fir bhi use jate dekh main seham jata hu….

Jindagi meri ab yar ek ajb si paheli hain…
Har roj pech mein iske kuch aur ulajh jata hu….

1 टिप्पणी:

  1. Jindagi meri ab yar ek ajb si paheli hain…
    Har roj pech mein iske kuch aur ulajh jata hu….


    this one is too gud.........keep writing........

    उत्तर देंहटाएं