रविवार, 21 सितंबर 2008

जो राह में फूल ही मिलते.. साथ निभाना कुछ मुश्किल था...


जो राह में फूल ही मिलते.. साथ निभाना कुछ मुश्किल था...
पत्थरों पे एक दूजे के सहारे ने... हमे खूब मिलाये रखा...

मुश्किलों में मिली हमारे रिश्ते को नयी गहराइयाँ...
सहूलियतो ने तो दरमियान यार, एक फासला बनाये रखा...

एक दूसरे के ग़म बाँट कर कुछ नजदीकी का एहसास हुआ
खुश थे तो खुद को उनसे दूर.. खुद में ही छुपाये रखा...

इन तकलीफों ने बक्शे हमारी गुफ्तगू को दुआ-सलाम से आगे के मकाम
कि अब तलक तो बेफिजूल के तकल्लुफ ने रिश्तो में अजनबीपन जगाये रखा...


आलोक मेहता...

*********************************************************************************************



jo rah mein phul hi milte to sath nibhna kuch mushkil tha...
pathro pe, ek dusre ke sahare ne hume khub milaye rakha....


muskhilo mein mili hamare rishte ko nayi gehraiya..
sahuliyato ne to yaar darmiyaa ek faasla banaye rakha....

ek duje ka gam baant kar kuch aur najdiki ka ehsaas hua...
khush the to khud ko unse dur khud mein hi chupaye rakha...

in taklifo ne bakshe hamari guftagu ko dua-salam se aage ke makam...
ki ab tak be-fijool ke takalluf ne rishte mein ek ajnabipan jagaye rakha...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें