बुधवार, 8 अक्तूबर 2008

सफ़र/SAFAR...

एक अनजानी राह
अनजानी दुनिया को
दिल चला हैं...
संग कुछ जज़्बात मुख्तलिफ
कुछ जुदा ख्यालातों का..
काफिला हैं...

निगाहों में हैं...
कुछ ख्वाब
जिनकी ताबीर पानी हैं
और दिल में चंद ख्वाहिशें
जिन्हें शक्ल-ऐ-हकीकत
दे जानी हैं..

सफ़र भी मुश्किल हैं..
और साथी-ऐ-सफ़र भी नामौजूद
न कोई निशा हैं राहो के
न मील के पत्थरों का
हैं वजूद

राह भी खुद बनानी हैं...
और आगे खुद ही बढ़ना भी हैं...
बचना हैं ठोकर से...
और गर गिरे तो संभलना भी हैं...

बरगलाने को कई छलावे भी...
गाहे बगाहे आ जाते हैं..
इक पल को भी मगर ये कदम
रस्ता न भटकने पाते हैं..

यूँ तो झूटे रिश्ते नातों की
जंजीरे मेरे भी पाँव खूब थी...
तकदीर मेरी अपने तरीके चलाये
हर एक शख्स की ये भूख थी...

मदद करने को भी राह में
कई लोगो ने हाथ बढ़ाये थे..
मगर हर शख्स की नजर में..
अपने ही मतलब समाये थे...

फलसफा बड़ा ही सीधा था...
सदियों का आजमाया था...
एहसान तले दबाने का...
जाल बिछाया था...

आखिर झुकी हो जिसकी गर्दा
किसी के जो एहसानों तले
उस शख्स की आँखों में
किस सूरत कोई ख्वाब फले

इसलिए अपना ही भरोसा
रख आगे बढ़ते जाना हैं...
अपना ही सहारा ले..
इन ख्वाबो का वजूद बचाना हैं...

सफ़र की ये दुश्वारियां
मुझे कुछ और निखारेंगी...
और ये ठोकरे राह की ही..
मेरी हस्ती सवारेंगी...

आलोक मेहता...



*****************************************




ek anjani raah
anjani dunia ko
dil chala hain..
sang kuch jajbaat mukhtalif
kuch juda khayalto ka
kaafila hain....

nigaho mein hain
kuch khwab
jinki taabir paani hain
aur dil mein chand 
khwaihshe
jinhe shakl-e-hakikat
de jaani hain...

safar bhi mushkil hain
aur sathi-e-safar bhi namaujud
na koi nisha hain raho ke
na meel ke pattharo ka
koi wajud

rah bhi khud banani hain
aur age khud hi badna bhi hain
bachna hain thokar se
aur gar gire to sambhalna bhi hain

bargalane ko kai chalawe
bhi gahe-bagahe aa jaate hain
ik pal ko bhi magar ye kadam
rasta na bhatakne paate hain

yu to jhute rishte naation ki
janjeere mere bhi panw khub thi
takdeer meri apne tarike chalaye
har ek shaks ki ye bhookh thi

madad karne ko bhi rah mein
kai logo ne haath badaye the
magar har shaks ki najar mein
apne hi matlab samaye the

falsafa bada hi sidha tha
sadio ka aajmaya tha
ehsaan tale dabane ka
sabne jaal bhichaya tha


jhuki ho jiski gardan
kisi ke ehsaano tale
us shaks ki ankho mein
kis surat koi khwab pale

isliye apna hi bharosa
rakh aage badte jaana hain
apna hi sahara le...
in khwabo ka wajud bachana hain

safar ki ye sab mushkile
mujhe kuch aur nikhaarengi
aur ye thokre raah ki...
hi meri hasti sawaarengi.....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें