शुक्रवार, 7 अगस्त 2009

फासले ये अब कम न होंगे.. और ये गहराएंगे..


उसके गुरुर, मेरे अहं से कहाँ आगे बढ़ पाएंगे....
फासले ये अब कम न होंगे.. और ये गहराएंगे..

... आलोक मेहता...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें