रविवार, 18 अप्रैल 2010

फिर क्यू हैं गरूर, गर मैं नहीं तो , तू भी खुदा तो नहीं

तेरी हस्ती के मानी ऐ यार कोई मुझसे जुदा तो नहीं
फिर क्यू हैं गरूर, गर मैं नहीं तो , तू भी खुदा तो नहीं

यु एक से रहते नहीं उम्र भर कि yaar बदल जाया करते हैं...
चलन यही हैं दुनिया mein, राज कोई तुझसे छुपा तो नहीं

मैं तो नहीं kehta kabhi कि मुझसे आ मिल जाया कर...
क्यों हैं फिर शर्मिंदा.... बेवफाई इस जहाँ कोई गुनाह तो नहीं

क्यों देखू खवाब कि जब एक भी परवान nahi chadhta यहाँ
आखिर दिल ही तो हैं mera... koi tute ख्वाबो कि कब्रगाह तो नहीं

एक अरसा हुआ कि उसका ख्याल न आया इस जेहन में मेरे...
ae दिल इस मेरे अफ़साने, कही खुद मैं ही तो बेवफा नहीं...

आलोक रहने ही दे यार तू यूँ मिलन-ओ-करार कि बातें...
हकीकत ही अब बयां कर कुछ ...खवाबो-ओ-खयालो कि दास्ताँ नहीं



*********************************************************
teri hasti ke maani ae yaar koi mujhse juda to nahi
phir q hain garur, gar main nahi to, tu bhi khuda to nahi

yu ek se rehte nahi umr bhar ki log badal jaaya karte hain

chalan yahi hain dunia mein, raaj koi tujhse chupa to nahi

main to nahi kehta kabhi ki mujhse aa mil jaaya kar...

q hain phir sharminda... bewafai is jahan koi gunaah to nahi

q dekhu khwab ki jab ek bhi parwaan nahi chadta yahan...

akhir dil hi to hain mera... koi tute khwabo ki kabrgaah to nahi...

ek arsa huna ki uskha khayal na aaya is jehan mein mere
ae dil is mere afsaane, kahi khud main hi to bewafaa nahi...

aalok rehne hi de yaar tu yun milan-o-karar ki baatein
hakikat hi ab bayan kar kuch.. khwab-o-khyalo ki daastan nahi...


aalok mehta..

2 टिप्‍पणियां: