बुधवार, 25 अगस्त 2010

bada hi shaatir kiraayedaar thera “Aalok” ishq to…

kuch na bhaya phr nigaho ko ik use takne ke baad

har shaks beswad laga inhe use chakhne ke baad


ishq ke bazaar ka chalan dunia se juda to nahi.

Sauda kijiye yaha bhi shaks parakhne ke baad…


dhun mein apni jinse aksar dur chala jaata hu...

khub yaad aate hain wo raah bhatakne ke baad....


jaam ki kimat hain ki bas... hosh taari rehne tak...

aab aur may ek hain phr hosh bahakne ke baad....


rishto ki girah ko apni gaantho se bachaye rakhna

ki kamjore rehti hain ye dor ek baar ulajhne ke baad…


bada hi shaatir kiraayedaar thera “Aalok” ishq to…

jaan bhi mangta hain mua dil mein basne ke baad…


...aalok mehta...



कुछ न भाया निगाहों को इक उसे तकने के बाद
हर शख्स बेस्वाद लगा इन्हें उसे चखने के बाद

इश्क के बाज़ार का चलन दुनिया से जुदा तो नहीं
सौदा कीजिये यहाँ भी शख्स परखने के बाद

धुन में अपनी जिनसे अक्सर दूर चला जाता हु...
खूब याद आते हैं वो राह भटकने के बाद

जाम की कीमत हैं कि बस, होश तारी रहने के तक...
आब और मय एक ही हैं फिर होश बहकने के बाद

रिश्तो की गिरह को अपनी गांठो से बचाए रखना
कि कमजोर रहती हैं ये डोर उलझने के बाद

बड़ा ही शातिर किरायेदार ठहरा "आलोक" इश्क तो
जान भी मांगता हैं मुआ दिल में बसने के बाद


...आलोक मेहता...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें