बुधवार, 24 नवंबर 2010

इक कटोरी ख्वाइश

ख्वाबो के आलों में करीने से
कुछ टूटे अरमानो के दरमियाँ
इक कटोरी ख्वाइश की रख छोड़ी हैं


कितनी कोशिशे की
मगर ये हैं की भरती ही नहीं
बढती ही जाती हैं अंधे क़ुए सी

आ जाओ इस तरफ जो कभी भूले से
अपनी इक चुटकी तमन्ना गर दे सको
होले से मेरी ख्वाइशो में मिला देना

शायद छुट जाऊ हर खवाइश से
कि तब शायद पूरी भर जाए..
मेरी एक कटोरी ख्वाइश की....


आलोक मेहता...


IK katori khwahish....

Khwabo k aalo mein karine se
kuch tute armano k darmiyan
ik katori khwaish ki rakh chodi hain

kitni koshishe ki,
... magar ye hai ki bharti nahi
badhti jati hain bus andhe kue si

aa jao kabhi is taraf jo kabhi bhule se
apni ik chutki tamanna gar de sako
hole se meri khwaisho mein mila dena

fir shayad chut jaau har khwahish se...
ki shayad tab puri bhare
meri ik katori khwaish ki

Aalok mehta...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें