गुरुवार, 6 जनवरी 2011

कभी तुझे मेरी जरुरत रहे..

मैं नहीं तो तू ही सही...
किसी सूरत ये सूरत रहे..
कभी तू रहे मेरी होकर...
कभी तुझे मेरी जरुरत रहे...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें