शनिवार, 8 जनवरी 2011

वो पल दो पल आये और पास रह जाए

तेरे तबस्सुम का दिल में एहसास रह जाए
फिर चली जाए के या फिर ये सांस रह जाए

उसकी जिद ये है कि यक-ब-यक ये टूटे...
मुझे डर कही न बाकी कोई फांस रह जाए...

दूरियाँ लाख बढ जाए... एक शर्त ये रहे...
लौट आने कि दरमियाँ आस रह जाए..

इनयात मिले तेरी या कि बेरुखी हो..
मौजूदगी का तेरी बस विश्वास रह जाए

तुझे मिला करे जहा भर के सब मकाम....
मेरे हिस्से तेरी बस ये तलाश रह जाए...

मेरे दयार में तुम दबे पाँव ही आना...
कि आहट पे दिल ये बदहवास रह जाए

आलोक उसे कह दे कि उसकी तमन्ना हैं ...
वो पल दो पल आये और पास रह जाए...


.आलोक मेहता..


.....................................




tere tabassum ka dil mein ehsaas reh jaaye
phir chali jaaye ke ya phir ye saans reh jaaye


uski jid ye hain ki yak-b-yak ye tute
mujhe dar kahi na baki koi faans reh jaaye

duri laakh badh jaaye.. ek shart ye rahe..
laut nake ki darmiyaan aas reh jaaye..


inaayat mile teri yaa ki berukhi ho
maujudgi ka teri bas vishwaas reh jaaye

tujhe mila kare jaha bhar k sab makam
mere hisse teri bas ye talaash reh jaaye

mere dayar mein tum dabe paanw hi aanaa
ki aahat pe dil ye badhawas reh jaaye...


aalok use keh de ki uski tamnna hain
wo pal do pal aaye aur paas reh jaaye..

...aalok mehta.

2 टिप्‍पणियां: