क्षितिज पे भी जमी का ये फलक न हो सका...

तुझे क्यों रहा गुमान
कि तेरा हो सकूँगा मैं...
अपना ही जब मैं
अब तलक न हो सका
मरासिम हैं ये फकत,
बात जान ले...
क्षितिज पे भी जमी का
ये फलक न हो सका...

कहा था तुझे..
कि ये मुमकिन ही नहीं
रखू किसी का ख्याल
फितरत में शामिल ही नहीं...
लाख चाहू तो भी तो ये
नहीं मेरे बस में...
नादानी जिसे कहते
मोहब्बत.
मेरी मंजिल ही नहीं...

...आलोक मेहता...

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बात चुभती हो कोई... तो चलो बात करे...

कि ये खता... मेरी न थी...