सोमवार, 8 अगस्त 2011

नहीं कहता कि न घबराऊंगा...

नहीं कहता कि न घबराऊंगा...
हाँ कहता.. कि फिर भी डट जाऊंगा
अंतिम क्षण तक पग न डिगेंगे...
जुझुंगा.. कर संभव.. असंभव जाऊंगा...

..आलोक मेहता...

2 टिप्‍पणियां:

  1. आलोक जी,
    नमस्कार,
    आपके ब्लॉग को "सिटी जलालाबाद डाट ब्लॉगपोस्ट डाट काम" के "हिंदी ब्लॉग लिस्ट पेज" पर लिंक किया जा रहा है|

    उत्तर देंहटाएं
  2. namskaar Vaneet ji. .. Aap blog tak aaye evam use apni suchi mein sammilit kiya.... aabhaar sweekar kare...

    उत्तर देंहटाएं