जीता हूँ तेरी... तनहाइयों को भी..

ख़ामोश तेरी अंगडाइयों को भी..
नींद तरसती जम्हाईयों को भी...
भांप लेता हूँ सभी बेचैनियाँ
जीता हूँ तेरी... तनहाइयों को भी...

...आलोक मेहता...

16.11.2011.. 7.05 pm

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बात चुभती हो कोई... तो चलो बात करे...

कि ये खता... मेरी न थी...