मंगलवार, 10 जनवरी 2012

जिस सिम्त.. जिंदगी तुझसे जुड़ी..

मीलों लम्बा सफ़र... चंद ही कदमो में सिमट गया..
जिस सिम्त.. जिंदगी तुझसे जुड़ी... आसान हो गयी...


आलोक मेहता...

10.01.2012

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें