दुआ-सलाम कर लौटने का.... फिर न रस्ता रखना...

यक-ब-यक ही जाना ..जब जाना तुम.. जिंदगी से मेरी...
दुआ-सलाम कर लौटने का.... फिर न रस्ता रखना...


आलोक मेहता...

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बात चुभती हो कोई... तो चलो बात करे...

कि ये खता... मेरी न थी...