जब नहीं था तब भी.. और जब था तब भी...

हर सिम्त जिंदगी मुझे उसकी ही तलाश रही...
जब नहीं था तब भी.. और जब था तब भी...

आलोक मेहता...

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बात चुभती हो कोई... तो चलो बात करे...

कि ये खता... मेरी न थी...